whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

PIB फैक्ट चेक में इन यूट्यूब चैनलों की सच्चाई आई सामने, अब आप भी हो जाएं सावधान

PIB Fact Check : पीआईबी फैक्ट चेक टीम ने अपनी जांच में 9 यूट्यूब चैनलों को भंडाफोड़ किया है। टीम ने पाया कि ये यूट्यूब चैनल गलत सूचनाओं और फर्जी खबरों का प्रचार प्रसार कर रहे हैं।
07:48 AM Dec 02, 2023 IST | News24 हिंदी
pib फैक्ट चेक में इन यूट्यूब चैनलों की सच्चाई आई सामने  अब आप भी हो जाएं सावधान

PIB Fact Check : दुनिया में आज सोशल मीडिया का युग है। सोशल मीडिया के सहारे जहां हम देश दुनिया की खबरों से अपडेट रहते हैं तो वहीं कुछ फेक खबरें भी सामने आती हैं। ऐसे कई सारे यूट्यूब चैनल हैं, जहां से गलत सूचनाएं और फेक खबरें फैलाई जाती हैं। सरकार ने लोगों को ऐसी खबरों से दूर रहने की सलाह दी है। प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) की फैक्ट चेक टीम ने पड़ताल की तो सच्चाई सामने आ गई। इसे लेकर PIB ने फेक न्यूज फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों को अलर्ट किया है।

पीआईबी फैक्ट चेक टीम ने अपनी जांच में 9 यूट्यूब चैनलों को भंडाफोड़ किया है। टीम ने पाया कि ये यूट्यूब चैनल गलत सूचनाओं और फर्जी खबरों का प्रचार प्रसार कर रहे हैं। इन यूट्यूब चैनलों में सरकारी योजनाओं, हादसों और आपदा को लेकर फर्जी खबरें शेयर हो रही हैं। ऐसे चैनलों की लिस्ट में आपके गुरुजी (aapke guruji), सनसनीलाइव (sansanilive), बीजे न्यूज (bj news), भारत एकता न्यूज ( bharat ekta news), gvt न्यूज (gvt news), अब बोलेगा भारत ( ab bolega bharat), डेली स्टडी (daily study) के नाम शामिल हैं। ऐसे में अगर आप भी इन चैनलों को सब्सक्राइब किए हैं तो सावधान हो जाएं.

News24 अब WhatsApp पर भी, लेटेस्ट खबरों के लिए जुड़िए हमारे साथ
news24 Whatsapp channel

यूट्यूब चैनलों की असलियत आई सामने

इसे लेकर PIB फैक्ट चेक टीम ने बताया कि इन चैनलों पर अपलोड होने वाले वीडियो में जानकारी पूरी तरह गलत है। साथ ही यूट्यूब चैनलों पर केंद्र सरकार की ऐसी योजनाओं के बारे में बताया जाता है, जिसे सरकार ने न तो लॉन्च किया है और न ही देश में ऐसी कोई योजनाएं चल रही हैं। ऐसे चैनलों को लेकर PIB ने एक्स (पहले ट्विटर) पर कई पोस्ट डाले हैं, जिसमें उनकी असलियत उजागर की गई है।

फैलाई जा रहीं फेक खबरें

सबसे बड़ी बात है कि ये 9 यूट्यूब चैनलों के 83 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं। इन चैनलों में प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस, चीफ इलेक्शन कमिश्नर के खिलाफ भ्रामक और फर्जी सूचनाएं फैलाए जा रहे हैं। साथ ही ईवीएम पर प्रतिबंध, केंद्रीय मंत्रियों के इस्तीफे, 200-500 के नोट हुए बंद, लगा राष्ट्रपति शासन से जुड़ी फेक न्यूज बनाकर फैलाई जा रही हैं। साथ ही वीडियो के थंबनेल में भी गलत कंटेंट लिखे होते हैं।

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो