whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

अनोखी स्‍ट्राइक! पतियों के साथ सोने से मना कर रहींं सैकड़ों महिलाएं, जान लें वजह

Jewish women: यहूदियों में धार्मिक नियमों के मुताबिक महिलाओं को घरेलू हिंसा के बारे में पुलिस को रिपोर्ट करने से पहले यहूदियों के धर्मगुरु रब्बी से मंजूरी लेनी होती है। प्रदर्शन कर रही महिलाएं इस कानून में सुधार करने की मांग कर रही हैं।
09:51 PM Mar 20, 2024 IST | Amit Kasana
अनोखी स्‍ट्राइक  पतियों के साथ सोने से मना कर रहींं सैकड़ों महिलाएं  जान लें वजह

Jewish women: अमेरिका में दशकों पुराने तलाक कानून को लेकर यहूदी महिलाएं अनोखी हड़ताल पर हैं। दरअसल, उन्होंने अगले कुछ माह एक दिन अपने पतियों से फिजिकल रिलेशनशिप न बनाने का फैसला किया है। बताया जाता है कि सप्ताह में शुक्रवार को दिन यहूदियों में फिजिकल रिलेशनशिप बनाने के लिए अच्छा माना जाता है, महिलाओं ने अपनी मांगों को लेकर इस दिन अब इससे दूरी बनाने का निर्णय लिया है।

कानून में बदलाव की मांग 

जानकारी के अनुसार करीब 800 महिलाएं इस हड़ताल में शामिल हैं। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है कि मौजूदा कानून के तहत उन्हें तलाक के लिए अपने पति की लिखित अनुमति की जरूरत होती है, जो गलत है। अमेरिकी मीडिया रिर्पोट्स के अनुसार यह सभी महिलाएं हसीदिक समुदाय से हैं। यह सभी यहूदी कानून को बदलाव करने की मांग कर रही हैं।

घरेलू हिंसा की शिकायत लेने से पहले लेनी होती है मंजूरी

महिलाओं का तर्क है कि दशकों पुरानी इस व्यवस्था से उन्हें तलाक लेने में परेशानी होती है। जिससे उन्हें अपमान झेलते हुए विवाह बंधन में फंसा रहना पड़ता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यहूदियों में किरयास जोएल धार्मिक नियमों के मुताबिक महिलाओं को घरेलू हिंसा के बारे में पुलिस को रिपोर्ट करने से पहले रब्बी (यहूदियों के धर्मगुरु) से मंजूरी लेनी होती है।

ये भी पढ़ें: Kanhaiya Kumar पर आमने-सामने Rahul Gandhi और Tejashwi Yadav? खेल गए चाणक्य Lalu Yadav!

यह है तलाक का धार्मिक कानून

जानकारी के अनुसार यहूदियों में रब्बी द्वारा साइन किया गया दस्तावेज, वैध तलाक के लिए जरूरी होता है। यहां महिलाओं के पास खुद से तलाक लेने का अधिकार नहीं है। तलाक के लिए उसे अपने पति की अनुमति चाहिए। महिला तलाक लेना चाहे और पति की इसमें मर्जी न हो तो वह उसे रोक सकता है। प्रदर्शन कर रही महिलाएं इसी धार्मिक कानून में सुधार करने की मांग कर रही हैं।
ये भी पढ़ें: BPSC ने क्यों रद्द की शिक्षक भर्ती परीक्षा? 15 मार्च को बिहार के 26 जिलों में हुआ था एग्जाम
Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो