whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

बिहार में BJP के दिग्गज नेता को कैंसर, खुद ट्वीट करके बताया, दिल का दर्द भी छलका

Sushil Modi Tweet Viral: सुशील मोदी कैंसर से जूझ रहे हैं। उन्होंने खुद ट्वीट करके बताया और लोकसभा चुनाव प्रचार नहीं करने की जानकारी दी।
11:50 AM Apr 03, 2024 IST | Khushbu Goyal
बिहार में bjp के दिग्गज नेता को कैंसर  खुद ट्वीट करके बताया  दिल का दर्द भी छलका
BJP MP Sushil Kumar Modi (Credit: ANI)

Bihar BJP Leader Sushil Modi Tweet Viral: भाजपा के दिग्गज नेता और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी कैंसर की बीमारी से जूझ रहे हैं। इसलिए वे इस बार लोकसभा चुनाव 2024 का प्रचार नहीं कर पाएंगे। न ही चुनावी गतिविधियों में हिस्सा ले पाएंगे।

इस बारे में उन्होंने खुद ट्वीट करके जानकारी दी। बिहार में भाजपा के कद्दावर नेता सुशील मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि पिछले 6 महीने से कैंसर की बीमारी से संघर्ष कर रहा हूं। लोकसभा चुनाव 2024 सिर पर हैं, लेकिन इस बार चुनाव में सहयोग नहीं कर पाऊंगा।

न ही किसी तरह की चुनावी गतिविधि में शामिल हो पाऊंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सब कुछ बता दिया है। सोचा अपने समर्थकों को भी इसकी जानकारी दे दूं, इसलिए ट्वीट लिखा। देश सेवा करने का मौका देने के लिए बिहार और पार्टी का तहेदिल से शुक्रगुजार हूं।

बता दें कि सुशील मोदी पिछले काफी समय से सार्वजनिक रूप से नजर नहीं आए हैं, लेकिन वे सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं और बयान जारी करते रहते हैं। इस बीच अपनी बीमारी की खबर देकर उन्होंने अपने समर्थकों को निराशा के भावों में डुबो दिया है।

सुशील मोदी देश-प्रदेश की राजनीति के दिग्गज नेता

बता दें कि सुशील मोदी का करीब 33 साल कर राजनीतिक करियर है। वे भाजपा के सदस्य हैं और बिहार से राज्यसभा सांसद थे। हाल ही में उनकी सदस्यता का पीरियड खत्म हुआ है। वे अपने करियर में विधानसभा, विधान परिषद, लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य रह चुके हैं। बिहार के उप-मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष भी नियुक्त हुए थे।

उन्होंने पटना यूनिवर्सिटी में छात्र संघ चुनाव लड़कर राजनीति में एंट्री की थी। उस समय वे छात्र संघ के महासचिव बने थे। लालू प्रसाद यादव जो आज उनके धुर विरोधी हैं, उन चुनाव में अध्यक्ष बने थे। जय प्रकाश नारायण से प्रभावित होकर वे राजनीति में आए थे। वे करीब 19 महीने जेल में भी रह चुके हैं। वे सुशील मोदी ही थे, जिन्होंने इंदिरा गांधी सरकार द्वारा पारित कानून मीसा को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया था और केस जीते भी थे।

लालकृष्ण आडवाणी के करीबी, लेकिन मंत्री नहीं बन पाए

सुशील मोदी भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी के करीबी रहे हैं और उनका केंद्रीय मंत्री बनने का सपना भी है, लेकिन अभी तक यह सपना पूरा नहीं हो पाया है। सुशील मोदी ABVP के राज्य सचिव भी बने थे। 1990 में पहली बार बिहार विधानसभा चुनाव जीता और 2004 तक चुनाव जीतते रहे। इस दौरान वे विधायक और नेता प्रतिपक्ष रहे। 2004 में सुशील मोदी पहली बार भागलपुर लोकसभी सीट से चुनाव जीतकर सांसद बने। नीतीश कुमार की सरकार में मंत्री बने। 2020 तक नीतीश की सरकार रही और वे उप-मुख्यमंत्री बनते रहे। 2020 में भाजपा ने उन्हें राज्यसभा में भेज दिया।

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो