whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

क्या हिमाचल में संकट में आई सुक्खू सरकार? कहां गए 9 विधायक

Himachal Pradesh Politics : हिमाचल प्रदेश में बड़ा खेल हो गया। राज्य में विधायकों की अधिक संख्या होने के बाद कांग्रेस के प्रत्याशी अभिषेक मनु सिंघवी राज्यसभा चुनाव में हार गए। क्रॉस वोटिंग के बाद हाईकमान कांग्रेस के 6 विधायकों से संपर्क नहीं साध पा रहा है। उनके साथ तीन निर्दलीय विधायक भी 'गायब' चल रहे हैं।
10:03 PM Feb 27, 2024 IST | Deepak Pandey
क्या हिमाचल में संकट में आई सुक्खू सरकार  कहां गए 9 विधायक
राज्यसभा चुनाव के बाद हिमाचल प्रदेश में संकट में आई सुक्खू सरकार।

Himachal Pradesh Politics : उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश की 15 राज्यसभा सीटों पर मंगलवार को वोटिंग हुई। इन राज्यों में से सबसे बड़ा उलटफेर हिमाचल प्रदेश में देखने को मिला। हिमाचल में कांग्रेस के 40 विधायकों में 6 ने क्रॉस वोटिंग कर दी। कांग्रेस के उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी और भाजपा के हर्ष महाजन को बराबर-बराबर 34-34 वोट मिले। बाद में टॉस के आधार पर हर्ष महाजन को विजयी घोषित कर दिया गया। क्रॉस वोटिंग करने के कांग्रेस के 6 विधायक और 3 निर्दलीय विधायक 'गायब' हो गए हैं। अब बड़ा सवाल उठता है कि क्या हिमाचल में सुक्खू सरकार के साथ कोई बड़ा खेल होने वाला है।

हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में कुल 9 क्रॉस वोटिंग हुई। कांग्रेस के 6 और निर्दलीय के 3 विधायकों ने भाजपा के पक्ष में वोट डाला। हिमाचल में इस वक्त कांग्रेस की सरकार है और सुखविंदर सिंह सुक्खू मुख्यमंत्री हैं। राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने के बाद सभी 9 विधायक पंचकूला पहुंच गए हैं। ये विधायक पंचकूला के सेक्टर-1 के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में रुके हैं। रेस्ट हाउस में न तो किसी व्यक्ति को जाने की इजाजत है और न ही मीडिया को।

यह भी पढ़ें : बीजेपी यूपी-हिमाचल में ही उलझी रही, उधर कर्नाटक में कांग्रेस ने कर दिया ‘खेला’

कांग्रेस और निर्दलीय के इन विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग

ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि हिमाचल प्रदेश में सुक्खू सरकार के पास बहुमत नहीं है। कांग्रेस के छह विधायकों में सुजानपुर से विधायक राजेंद्र राणा, धर्मशाला से विधायक सुधीर शर्मा, कुटलैहड़ से देवेंद्र भुट्टो, बड़सर से आईडी लखनपाल, लाहौल स्पीति से रवि ठाकुर और गगरेट से चैतन्य शर्मा शामिल हैं, जिन पर क्रॉस वोटिंग करने का शक है। वहीं, निर्दलीय विधायकों में हमीरपुर से विधायक आशीष शर्मा, देहरा से होशियार सिंह और नालागढ़ से केएल ठाकुर ने भाजपा के पक्ष में वोटिंग की।

सीएम ने विधायकों को अगवा करने का लगाया आरोप

इस बीच हिमाचल प्रदेश के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के पांच से छह विधायकों को 'अगवा' कर लिया गया और उन्हें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) तथा हरियाणा पुलिस के काफिले में साथ ले जाया गया। उन्होंने यह भी कहा कि इन विधायकों के परिजन उनसे (विधायकों से) संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : हिमाचल में आसमानी आफत का कहर, कुल्लू में 30 सेकेंड में भरभराकर गिरी 7 इमारतें, Video

हिमाचल में बहुमत के लिए चाहिए 35 विधायक 

राज्य में चर्चा चल रही है कि अगर राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी जीत नहीं सकते हैं तो भाजपा विधानसभा में सुक्खू सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ला सकती है। हिमाचल में कुछ 68 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें कांग्रेस के पास 40 विधायक और भाजपा के पास 25 विधायक हैं। साथ ही तीन निर्दलीय विधायक भी हैं। अगर कांग्रेस के छह विधायक पाला बदल लेते हैं तो सुक्खू सरकार अल्पमत में आ जाएगी। कांग्रेस के पास 34 विधायक रह जाएंगे, जोकि बहुमत के लिए 35 के आंकड़े से एक कम है।

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो