whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

Maharashtra: उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, ED के रडार पर रहे विधायक ने शिंदे गुट का थामा दामन

Ravindra Waikar Join Shiv Sena Shinde faction : देश में कुछ ही दिनों में लोकसभा चुनाव का बिगुल बजने वाला है। इससे पहले राजनीतिक दलों में जोड़तोड़ की राजनीति चल रही है। इस बीच महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे गुट के विधायक रवींद्र वायकर शिवसेना शिंदे गुट में शामिल हो गए।
10:02 PM Mar 10, 2024 IST | Deepak Pandey
maharashtra  उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका  ed के रडार पर रहे विधायक ने शिंदे गुट का थामा दामन
विधायक रवींद्र वायकर ने शिवसेना शिंदे गुट का थामा दामन।

Ravindra Waikar Join Shiv Sena Shinde faction : लोकसभा चुनाव से पहले महाराष्ट्र में पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका लगा। शिवसेना (यूबीटी) के विधायक रवींद्र वायकर ने रविवार को असली शिवसेना शिंदे गुट का दामन थाम लिया। रवींद्र वायकर के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ED) जांच पड़ताल कर रही है।

पिछले दिनों मुंबई के जोगेश्वरी से विधायक रवींद्र वायकर ने सीएम एकनाथ शिंदे से उनके बंगले पर मुलाकात की। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि वे शिवसेना शिंदे गुट में शामिल हो सकते हैं। जोगेश्वरी भूखंड घोटाले मामले में रवींद्र वायकर ईडी के रडार हैं। इस मामले में ईडी अधिकारी उनसे पूछताछ भी कर चुकी है।

यह भी पढ़ें : काला जठेड़ी की शादी से पहले बड़े गैंगवार की साजिश, दिल्ली पुलिस को मिली सफलता

सीएम शिंदे ने विधायक को दिलाई पार्टी की सदस्यता

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने विधायक रवींद्र वायकर को शिवसेना की सदस्यता दिलाई। इसके बाद सीएम शिंदे ने कहा कि रवींद्र वायकर असली शिवसेना में शामिल हो गए जो बाबा साहेब ठाकरे की विचारधारा पर चल रही थी। वह जानते हैं कि यह सरकार महाराष्ट्र के लोगों के लिए काम कर रही है। मैं वायकर का शिवसेना में स्वागत करता हूं। हम नकारात्मक चीजों को सकारात्मक में बदलें।

यह भी पढ़ें : TMC ने गुजरात के यूसुफ पठान को क्यों बनाया उम्मीदवार? अधीर रंजन चौधरी के खिलाफ क्या है राजनीतिक समीकरण

रवींद्र वायकर पर यह है आरोप

जोगेश्वरी पूर्व विधानसभा सीट से रवींद्र वायकर लगातार तीन बार विधायक चुने गए। देवेंद्र फडणवीस सरकार में वे 2014 से 2019 तक मंत्री भी थे। इससे पहले वे नगरसेवक भी रह चुके हैं। 2006 से 2010 तक वे बीएमसी की स्थायी समिति के अध्यक्ष रहे। उन पर बगीचे के लिए आरक्षित भूखंड पर होटल के निर्माण के लिए गलत तरीके से मंजूरी देने का आरोप है। इस मामले में ईडी ने उनके घर और दफ्तरों पर छापा मारा था।

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो