whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

Chaitra Navratri 2024 Day 4: नवरात्रि का चौथा दिन मां कुष्मांडा को है समर्पित, जानें पूजा विधि

Chaitra Navratri 2024 Day 4: चैत्र नवरात्रि का आरंभ 9 अप्रैल 2024 से हो गया है। आज नवरात्रि का चौथा दिन है। नवरात्रि के चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा-अर्चना की जाती है। आइए जानते हैं माता कुष्मांडा की पूजा से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में।
06:00 AM Apr 12, 2024 IST | Nidhi Jain
chaitra navratri 2024 day 4  नवरात्रि का चौथा दिन मां कुष्मांडा को है समर्पित  जानें पूजा विधि

Chaitra Navratri 2024 Day 4: नवरात्रि के 9 दिन मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री, दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी और तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। वहीं चौथे दिन मां कुष्मांडा की उपासना की जाती है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार, जो लोग नवरात्रि में मां कुष्मांडा की पूजा करते हैं, उनके घर में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहती है। इसके अलावा उनके जीवन में आ रही परेशानियां भी धीरे-धीरे कम होने लगती हैं। आइए अब जानते हैं मां कुष्मांडा की पूजा विधि से लेकर शुभ मुहूर्त के बारे में।

ये भी पढ़ें- 7 साल बाद शुक्रवार को बना लक्ष्मी पंचमी का संयोग, इन 3 राशियों की चमकेगी किस्मत!

मां कुष्मांडा की पूजा का शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार, आज मां कुष्मांडा की पूजा के 2 शुभ मुहूर्त हैं। पहला शुभ मुहूर्त प्रात: काल 04:29 से लेकर 05:14 तक है। वहीं दूसरे शुभ मुहूर्त का आरंभ दोपहर 02:30 से हो रहा है, जिसका समापन 03:21 पर होगा।

मां कुष्मांडा का प्रिय रंग कौन सा है?

हिंदू मान्यता के अनुसार, मां कुष्मांडा को नारंगी रंग अति प्रिय है। अगर आप मां कुष्मांडा की पूजा करते समय नारंगी रंग के कपड़े पहनते हैं, तो इससे मां प्रसन्न होती हैं। इसके अलावा अपने भक्तों पर सदा अपना आशीर्वाद बनाकर रखती हैं।

मां कुष्मांडा की पूजा विधि

  • अगर आप भी मां कुष्मांडा का आशीर्वाद पाना चाहते हैं, तो इसके लिए प्रात: काल स्नान करने के बाद स्वच्छ कपड़े पहने।
  • फिर घर के मंदिर में एक चौकी लगाकर उस पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं।
  • चौकी पर मां कुष्मांडा की एक तस्वीर रखें।
  • इसके बाद मां को तिलक लगाएं।
  • माता को इलायची और सौंफ अर्पित करें। इस दौरान माता कुष्मांडा के मंत्रों का जाप करें।
  • इसके बाद मां की तस्वीर के सामने घी का दीपक जलाएं।
  • अंत में मां कुष्मांडा की आरती करें।

ये भी पढ़ें- Chaitra Navratri 2024: आज से शुरू हुआ चैत्र नवरात्रि, जानें शुभ तिथि, घटस्थापना मुहूर्त और शुभ योग

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष शास्त्र पर आधारित है तथा केवल सूचना के लिए दी जा रही है। News24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। 

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो