whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

Fact check : गाजा की अस्पताल में बमबारी का बताकर जिस वीडियो को वायरल किया जा रहा है वह सीरिया का है

Fact Check : वीडियो की पड़ताल करने पर पता चला कि यह सात साल से अधिक पुराना है। यह वीडियो अलेप्पो, सीरिया का है। इसका इसराइल-हमास के बीच चल रहे युद्ध से कोई लेना-देना नहीं है।
04:38 PM Oct 31, 2023 IST | Pankaj Soni
fact check   गाजा की अस्पताल में बमबारी का बताकर जिस वीडियो को वायरल किया जा रहा है वह सीरिया का है
गाजा की अस्पताल में बमबारी का बताकर जिस वीडियो को वायरल किया जा रहा है वह सीरिया का है।

हमास के द्वारा 7 अक्टूबर को इजराइल पर हमला करने के बाद जवाबी कार्रवाई में इजराइल ने गाजा पर हमले किए जिसमें हजारों लोगों की मौत हो गई। इजराइल की ओर से गाजा में आज भी हवाई हमले जारी हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे गाजा की अस्पताल पर मिसाइल हमले का बताया जा रहा है। वीडियो में सीसीटीवी फुटेज शामिल है जिसमें अस्पताल के कमरों के भीतर विस्फोट और विनाश को दिखाया गया है, जो संभवतः रॉकेट हमले के बाद हुआ है। इस वीडियो एक एक्स साइट पर #Gazabombing 'वास्तव में अस्पताल में हमला मानवता का गला घोंटने जैसा है...थोड़ी दया करो।' युद्ध सामरिक रूप से अलग होना चाहिए और खुला मानव नरसंहार नहीं होना चाहिए।' इस कैप्शशन के साथ शेयर किया जा रहा है। हमारी फैक्ट चेक टीम मे पाया कि वीडियो सात साल से अधिक पुराना है और अलेप्पो, सीरिया का है, जिस गाजा पट्टी का बताकर शेयर किया जा रहा है।

फैफ्ट चेक में क्या सामने आया?
वीडियो की स्क्रीनग्रैब्स की रिवर्स इमेज सर्च से हमें वीडियो-होस्टिंग वेबसाइट BitChute पर वीडियो का एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन संस्करण मिला। क्लिप का शीर्षक था, "यह पहली बार नहीं है जब इजराइल ने किसी अस्पताल पर बमबारी की है।" इस वीडियो में दिख रहे टाइमस्टैंप के मुताबिक इसे 16 जुलाई 2016 को रिकॉर्ड किया गया था। इससे यह साबित हो गया कि इस वीडियो का गाजा में चल रहे संघर्ष का नहीं है।

यह भी पढ़ें : Fact Check : क्या केरल में फिलिस्तीन के समर्थकों ने इटली का झंडा लहराया, वायरल वीडियो की सामने आई सच्चाई

हमने पाया कि 20 अक्टूबर, 2023 को सीरिया के पत्रकार फरेद अल महलूल ने रूस और सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद की आलोचना करते हुए यह वीडियो साझा किया था। उन्होंने लिखा, 'इस दशक के दौरान, रूस और असद शासन ने सीरिया में कई अस्पतालों पर बमबारी की और उन्हें नष्ट कर दिया और हजारों लोगों को मार डाला, और अब वे कहते हैं कि वे उन सटीक कार्रवाइयों की निंदा करते हैं। यह सीरिया में उनके द्वारा निशाना बनाए गए कई अस्पतालों में से एक का वीडियो है।

हमने मूल वीडियो में कुछ अरबी पाठ के साथ एएमसी का लोगो देखा। हमने इन्हें गूगल लेंस के जरिए चलाया और पता चला कि यह वीडियो अलेप्पो मीडिया सेंटर का है। अलेप्पो सीरिया का एक शहर है। बाद में अरबी में उन्नत कीवर्ड खोज के साथ, हमें 31 जुलाई, 2016 को एएमसी के यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया गया मूल वीडियो मिला। इस वीडियो के कैप्शन का अनुवाद इस प्रकार है, 'अपराध का दस्तावेजीकरण करने वाले क्षण: जुलाई के मध्य में उमर बिन अब्दुल अजीज अस्पताल को निशाना बनाकर किया गया हवाई हमला।"

नवंबर 2016 की वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, अलेप्पो में उमर बिन अब्दुल अजीज अस्पताल बमबारी का निशाना था। उस समय, डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स ने कहा कि जुलाई 2016 में सरकार-सहयोगी बलों द्वारा क्षेत्र को घेरने के बाद से पूर्वी अलेप्पो अस्पताल पर यह तीसवां हमला था। इसलिए, यह स्पष्ट रूप से स्पष्ट हो जाता है कि सीरिया के एक पुराने और असंबंधित वीडियो को गाजा में अस्पताल पर बमबारी के रूप में साझा किया गया था।

यह भी पढ़ें : Fact Check : पीएम मोदी के दो दशक पुराने इंटरव्यू को एडिट कर फैलाया जा रहा ‘हिंदुत्व के मुद्दे पर’ झूठ

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो