whatsapp
For the best experience, open
https://mhindi.news24online.com
on your mobile browser.

केजरीवाल की गिरफ्तारी पर मध्य प्रदेश CM मोहन यादव का बड़ा बयान, जेल से सरकार चलाने पर कसा तंज

CM Mohan Yadav On CM Kejriwal ED Arrest: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि CM केजरीवाल पहले इस्तीफा देना चाहिए था।
02:06 PM Mar 22, 2024 IST | Pooja Mishra
केजरीवाल की गिरफ्तारी पर मध्य प्रदेश cm मोहन यादव का बड़ा बयान  जेल से सरकार चलाने पर कसा तंज
CM केजरीवाल की गिरफ्तारी पर MP सीएम मोहन यादव का बड़ा बयान

CM Mohan Yadav On CM Kejriwal ED Arrest: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ED द्वारा गिरफ्तारी को लेकर देशभर में राजनीति का माहौल गर्म हो गया है। पहले इस गिरफ्तारी के खिलाफ सीएम केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, लेकिन फिर उन्होंने अपनी याचिका को वापस ले लिया। अब इस मामले की सुनवाई निचली अदालत में होगी। ऐसे में इस बीच सीएम केजरीवाल की गिरफ्तारी पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने सीएम केजरीवाल के जेल से सरकार चलाने पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें पहले इस्तीफा देकर आरोपों से बरी होना चाहिए।

केजरीवाल की गिरफ्तारी पर क्या बोले सीएम मोहन यादव? 

सीएम मोहन यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में जेल जाना यह बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है। आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ है कि कोई मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए जेल गया हो। उन्होंने कहा कि अपने देश का इतिहास है कि जब भी किसी नेता पर कोई आरोप लगता है तो वह सबसे पहले अपना इस्तीफा देते हैं और जब तक आरोप से बरी नहीं हो जाते, तब तक वह अपना दायित्व नहीं लेते हैं। लाल बहादुर शास्त्रीजी से लेकर लालकृष्ण आडवाणी तक किसी ने भी अपना दायित्व तब तक नहीं लिया, जब तक वे आरोपों से बरी नहीं हो गए।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में पहले चरण के लिए दाखिल हुए 9 नामांकन पत्र, जबलपुर और छिन्दवाड़ा सीट अभी भी बाकी

सीएम मोहन यादव का केजरीवाल पर तंज

उन्होंने कहा कि मैं मानता हूं कि लोकतंत्र में अगर किसी के ऊपर उंगली उठ रही है। इसके अलावा उनकी ही पार्टी के 2-2 मंत्री इसी आरोप के चलते जेल में बंद हैं। जिन्हें लगातार प्रयास करने के बाद भी हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट से जमानत नहीं मिल रही हैं। इतना ही नहीं, शराब कांड के मामले में केजरीवाल को भी 9 बार समन भेजा गया, जिसके लिए वह हाईकोर्ट गए, जहां उन्हें कोर्ट से रिलीफ नहीं मिला, ऐसे में उन्हें खुद इस्तीफा देकर पहले अपने ऊपर लगे आरोप का सामना करना चाहिए था। आरोपों से बरी होने के बाद वह अपनी सरकार चला सकते थे। ऐसे मुख्यमंत्री के रूप में जेल जाना यह बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है। आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ। पद का इतना मोह, लोभ केजरीवाल जी को शोभा नहीं देता।

Tags :
tlbr_img1 दुनिया tlbr_img2 ट्रेंडिंग tlbr_img3 मनोरंजन tlbr_img4 वीडियो